Tuesday, January 31, 2023
More
    Homeउत्तर प्रदेशराष्ट्र हित मे बिजनेस का विकास हमारी प्रतिबद्धता

    राष्ट्र हित मे बिजनेस का विकास हमारी प्रतिबद्धता

    • मैं भारत और भारतीयों के लिए वर्ल्ड-क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं के निर्माण के लिए, हर अवसर का उपयोग करने के लिए दृढ़ संकल्पित हूं।
    • भारत जैसे गतिशील लोकतंत्र में अपनी स्किल को निखारने के बाद, मेरे समूह और मुझे विश्वास है कि हम दुनिया के किसी भी हिस्से में डिलीवरी दे सकते हैं और कारोबार कर सकते हैं।
    • मैं हमेशा आत्मनिरीक्षण करता हूं हर आलोचना मुझे खुद में सुधार करने का मौका देती है। हार मान लेना, अदाणी कल्चर का हिस्सा कभी नहीं रहा है।

    नई दिल्ली 29 दिसम्बर राष्ट्र हित मे बिजनेस का विकास हमारी प्रतिबद्धता है मैं भारत और भारतीयों के लिए वर्ल्ड-क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं के निर्माण के लिए, हर अवसर का उपयोग करने के लिए दृढ़ संकल्पित हूं। अदाणी समूह भारत की प्रगति के संवाहक के रूप मे कदम से कदम मिलाकर चल रहा है।

    अदाणी समूह की वृद्धि वास्तव में आश्चर्यजनक रही है। एक दशक से भी कम समय में भारत के पावर सेक्टर के सबसे बड़े, पोर्ट ऑपरेटर, एयरपोर्ट ऑपरेटर, कंस्यूमर गैस बिज़नेस और इलेक्ट्रिक ट्रांसमिशन कंपनी बन गए हैं, साथ ही रिन्यूएबल एनर्जी में सबसे बड़े इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपर बन गए हैं। इस वर्ष, आपका समूह देश का दूसरा सबसे बड़ा सीमेंट मैन्युफैक्चरर बन गया है और आप एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस, मैनुफैक्चरिंग, टेलीकॉम, डेटा सेंटर और लॉजिस्टिक्स सहित अन्य सेक्टर्स में तेजी से विविधता ला रहे हैं। लेकिन 2022 में आपने और भी बहुत कुछ हासिल किया है। 150 बिलियन डॉलर की निजी संपत्ति के साथ, आप रिलायंस के मुकेश अंबानी और अन्य दिग्गजों को पीछे छोड़ते हुए सबसे अमीर भारतीय बन गए हैं। व्यवसाय और व्यक्तिगत संपत्ति दोनों के मामले में आपके अभूतपूर्व विकास और देशभर में लाखों लोगों को आपने प्रभावित किया है इन सभी बिन्दुओं पर एक टीवी चैनल से बात करते हुए अदाणी समूह के चेयरमैन गौतम अदाणी उदाहरण देते हुए कहा कि हमारे पास एक सफल अदाणी विल्मर आईपीओ था और इस प्रकार, अदाणी विल्मर समूह की सातवीं लिस्टेड कंपनी बन गई है।

    हमने एक बिज़नेस मॉडल बनाया है जहां हम किसी व्यवसाय को शून्य से शुरू करते हैं, इसे लाभदायक बनाते हैं और फिर इसे सार्वजनिक करते हैं। यह आईपीओ इसका एक और उदाहरण था। हम भारत के दूसरे सबसे बड़े सीमेंट निर्माता भी बन गए जब हमने लगभग 10.5 बिलियन डॉलर में एसीसी और अंबुजा सीमेंट्स का अधिग्रहण किया। यह सबसे बड़ा अधिग्रहण है। हमने पहले ऐसा कभी नहीं किया, और यह इंफ्रास्ट्रक्चर और मैटेरियल्स के क्षेत्र में भारत का अब तक का सबसे बड़ा एम&ए लेनदेन भी है। मैं पहली पीढ़ी का उद्यमी हूं, जिसे सब कुछ शून्य से बनाना था। मुझे चुनौतियों से निपटने में रोमांच मिलता है, चुनौतियां जितनी बड़ी होती हैं, मैं उतना ही खुश होता हूं।

    मेरे लिए, किसी वेल्थ रैंकिंग या वैल्यूएशन लिस्ट में होने से कहीं अधिक संतोषजनक और महत्वपूर्ण, लोगों के जीवन में बदलाव लाने और राष्ट्र के विकास व निर्माण में योगदान करने का अवसर तथा क्षमता पैदा करना है। मैं भगवान का शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मुझे इंफ्रास्ट्रक्चर के निर्माण के माध्यम से देश की सेवा करने का एक बड़ा अवसर दिया है।
    निजी तौर पर बोल रहा हूँ, यह साल मेरे जीवन का सबसे बड़ा साल था। इस साल मैंने अपना 60वां जन्मदिन मनाया। इस व्यक्तिगत माइलस्टोन के अलावा, इस अवसर पर, मेरे परिवार ने अदाणी फाउंडेशन को 60,000 करोड़ रुपये देने का वचन दिया, जो मेरे दिल के करीब तीन सामाजिक मामलों, एजुकेशन, हेल्थ केयर और स्किल डेवलपमेंट का सहयोग करने के लिए हैं, जो किसी भी राष्ट्र की मूलभूत जरूरतें हैं। इससे मुझे अपार संतुष्टि और खुशी मिली है जो कोई भी प्रोफेशनल उपलब्धि कभी नहीं दे सकती।

    एक सामान्य व्यक्ति के रूप में, औसत भारतीय का साहस, शक्ति, लचीलापन और तपस्या, मेरे लिए बहुत इंस्पायरिंग और मोटिवेशनल है। आपके साथ शेयर करने के लिए, हमारे ग्रीन टॉक्स सीरीज के दूसरे एडिशन में, मैं अरुणिमा सिन्हा और किरण कनौजिया की कहानियों से बहुत प्रभावित हुआ। दो असाधारण महिलाएं जिन्होंने दुर्भाग्य से अपने अंग खो दिए लेकिन फिर भी दुनिया को जीत लिया। अरुणिमा ने माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई की और ब्लेड रनर किरण मैराथन दौड़ रही हैं। दोनों अविश्वसनीय महिलाएं हैं और भारत का गौरव हैं।

    वे नए भारत के असली हीरो हैं। उनकी कहानियों ने मुझे इतना प्रभावित किया कि मेरी आंखों में आंसू आ गए। मैं वास्तव में उनकी भावनाओं से काफी प्रेरित हूं। क्या विपरीत परिस्थितियों का सामना करने के लिए इस तरह के साहस, वीरता और दृढ़ संकल्प से बढ़कर कुछ और प्रेरक हो सकता है? उनकी कहानी देखकर मेरा यह विश्वास और भी पुख्ता हो गया है कि इंसान से ताकतवर कोई मशीन नहीं है। ऐसी मानवीय कहानियां मेरे लिए प्रेरणा का सबसे बड़ा सोर्स हैं।

    मैं एक मध्यमवर्गीय परिवार में पैदा हुआ था और मैं 1970 और 80 के दशक में भी रहा हूं, जब हमें बिजली, सड़क और पानी के लिए संघर्ष करना पड़ा। यह वह समय था जब भारत में पोर्ट्स, एयरपोर्ट्स और अन्य सेक्टर्स में इंफ्रास्ट्रक्चर की भारी कमी थी। इसके विपरीत, चीन, जो लगभग भारत के साथ ही स्वतंत्र हुआ था और जिसकी प्रति व्यक्ति आय 1990 में भारत की तुलना में कम थी, विकास में भारत से आगे छलांग लगाने लगा। इन सभी मुद्दों ने मुझमें भारत को बदलने के लिए, खासकर इंफ्रास्ट्रक्चर में, और भारत को मजबूत बनाने के लिए जो कुछ भी कर सकते हैं, करने की एक बड़ी इच्छा पैदा की। इस बीच, 1991 से शुरू होकर, नीतिगत बदलावों ने इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में निजी क्षेत्र के प्रवेश के लिए एक सक्षम वातावरण तैयार किया। यही कारण है कि मैं भारत और भारतीयों के लिए वर्ल्ड-क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं के निर्माण के लिए, हर अवसर का उपयोग करने के लिए दृढ़ संकल्पित हूं।

    अपने मैनेजमेंट स्टाइल और सफलता के मंत्र पर चर्चा करते हुए श्री अदाणी ने कहा कि हमारे सभी व्यवसाय प्रोफेशनल, सक्षम सीईओ द्वारा चलाए जाते हैं। मैं उनके रोजमर्रा के कामकाज में दखल नहीं देता। मेरी भूमिका रणनीति बनाने, कैपिटल एलोकेशन और उनके रिव्यु तक ही सीमित है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मेरे पास न केवल इतने बड़े और विविध संगठन का प्रबंधन करने का समय है बल्कि कई नए व्यवसायों को इनक्यूबेट करने और अधिग्रहण के नए अवसरों की तलाश करने का भी समय है। एनडीटीवी मीडिया समूह के अधिग्रहण पर बात करते हुए उन्होने साफ किया कि संपादकीय स्वतंत्रता पर, मैं साफतौर से कहना चाहता हूं कि एनडीटीवी, प्रबंधन और संपादकीय के बीच एक स्पष्ट लक्ष्मण रेखा के साथ एक विश्वसनीय, स्वतंत्र, ग्लोबल नेटवर्क होगा। मैं जो कह रहा हूं उसके एक-एक शब्द पर आप कभी न ख़त्म होने वाली बहस और व्याख्या कर सकते हैं, जैसा कि बहुतों ने किया है इसलिए, कृपया हमें जज करने से पहले हमें कुछ समय दें।

    अदाणी समूह पर कर्ज़ पर बात करते हुए श्री अदाणी ने कहा कि हम आर्थिक रूप से बहुत मजबूत और सुरक्षित हैं। इस तरह की आवाजें दो कैटेगरी से आ रही हैं। पहली कैटेगरी उन लोगों की है जो कंपनी के ऋण और वित्त की विस्तृत बारीकियों को समझने के लिए बहुत अधिक गहराई तक नहीं जा रहे हैं। मुझे यकीन है कि अगर वे वित्तीय विवरणों को समझने का प्रयास करेंगे तो कर्ज के बारे में सभी गलतफहमियां दूर हो जाएंगी। हालांकि, निहित स्वार्थ वाले लोगों की दूसरी कैटेगरी जानबूझकर समूह की प्रतिष्ठा को धूमिल करने के लिए भ्रम और गलतफहमी पैदा कर रही है। इस मामले की सच्चाई यह है कि पिछले नौ वर्षों में, हमारा लाभ हमारे ऋण की दोगुनी दर से बढ़ रहा है, जिसके कारण हमारा ऋण एबिटडा अनुपात 7.6 से घटकर 3.2 हो गया है, जो कि एक बड़े समूह के लिए बहुत स्वस्थ है, जहां अधिकांश कंपनियां मैनुफैक्चरिंग के विपरीत सुनिश्चित और अनुमानित कैश फ्लो के साथ इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में हैं।

    यही कारण है कि न केवल नेशनल बल्कि इंटरनेशनल रेटिंग एजेंसियों ने हमें भारत की सर्वश्रेष्ठ रेटिंग के बराबर दर्जा दिया है। मेरे लिए यह बहुत गर्व की बात है कि भारत में किसी अन्य व्यावसायिक समूह के पास, अदाणी समूह की सर्वश्रेष्ठ रेटिंग जितनी कंपनियां नहीं हैं।

    राज, आप अच्छी तरह से जानते हैं कि रेटिंग एजेंसियां, खासकर इंटरनेशनल एजेंसियां, रेटिंग देने में बहुत रूढ़िवादी और कंजूस हैं तथा उनके पास फाइनेंसियल एनालिसिस की एक बहुत ही कठोर और मजबूत प्रणाली व प्रक्रिया होती है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व शैली की सराहना करते हुए उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने भारत को एक दूरदर्शी और प्रेरणादायक नेतृत्व दिया है। उन्होंने न केवल महत्वपूर्ण नीतिगत बदलाव लाए हैं बल्कि विभिन्न कार्यक्रमों और योजनाओं के माध्यम से, हर भारतीय के जीवन को सीधे प्रभावित किया है। शासन का शायद ही कोई पहलू हो जिसे उन्होंने न छुआ हो। वह न केवल भारतीय अर्थव्यवस्था में परिवर्तनकारी का बदलाव लाने के लिए कठिन प्रयास कर रहे हैं, बल्कि सामाजिक परिवर्तन और समावेशी विकास पर भी जोर दे रहे हैं। उन्होंने कई नई योजनाओं और उनके प्रभावी कार्यान्वयन के माध्यम से, भारत के इंडस्ट्रियल और इकोनॉमिकल विकास को एक मजबूत पुश दिया है। आत्मनिर्भर भारत, डिजिटल इंडिया और स्टार्ट-अप इंडिया जैसी योजनाओं ने इकोनॉमिक मल्टीप्लायर्स के रूप में काम किया है और न केवल अंतहीन व्यापार और मैनुफैक्टरिंग अवसर पैदा किए हैं बल्कि लाखों प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार भी दिए हैं।

    प्रधानमंत्री का सोशल सेक्टरम एग्रीकल्चर इकॉनमी और देश के अविकसित क्षेत्र पर सामान रूप से ध्यान केंद्रित है, जिसने गरीबों के लिए एक सुरक्षा जाल के साथ, समावेशी और टिकाऊ विकास सुनिश्चित किया है। स्वच्छ भारत, जन धन योजना, डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर और आयुष्मान भारत जैसी उनकी योजनाओं ने भारत में परिवर्तनकारी बदलाव लाए हैं।
    आप इस बात की सराहना करेंगे कि हम इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में हैं जो काम करने के लिए सबसे कठिन जगह है। मैंने कई बार ऐसी चुनौतियों का सामना किया है। आलोचना के प्रति मेरा विचार बहुत खुला है। मेरे लिए संदेश, हमेशा सन्देश देने वाले से अधिक महत्वपूर्ण रहा है। मैं हमेशा आत्मनिरीक्षण करता हूं और दूसरे के दृष्टिकोण को समझने की कोशिश करता हूं। मैं इस बात के लिए सतर्क रहता हूं कि न तो मैं परफेक्ट हूं और न ही हमेशा सही हूं. हर आलोचना मुझे खुद में सुधार करने का मौका देती है। हां, हार मान लेना, अदाणी कल्चर का हिस्सा कभी नहीं रहा है। वर्षों से, समूह ने कभी न ख़त्म होने वाली ऊर्जा और समस्या को सुलझाने के दृष्टिकोण के साथ, एक मजबूत और प्रोफेशनल टीम विकसित की है। हम हमेशा समाधान की तरफ देख रहे हैं। भारत जैसे गतिशील लोकतंत्र में अपनी स्किल को निखारने के बाद, मेरे समूह और मुझे विश्वास है कि हम दुनिया के किसी भी हिस्से में डिलीवरी दे सकते हैं और कारोबार कर सकते हैं।

    मैंने बचपन से ही मुश्किलों और समस्याओं का सामना किया है। इनमें से प्रत्येक अवसर ने मुझे कई महत्वपूर्ण सबक सिखाएं हैं, और मुझे अधिक मजबूत बनाया है। यही कारण है कि मैं हमेशा अपनी टीम से कहता हूं, ‘क्राइसिस को कभी बर्बाद मत करें’।


    Read more : फर्न्‍स एंड पैटल्‍स की आकर्षक पेशकश – क्रिसमस गिफ्ट बास्‍केट्स और पर्सनलाइज्‍़ड हैम्‍पर्स के साथ मनाएं हॉलीडे मूड का जश्‍न

    E-paper: Divyasandesh

     

     

     

    RELATED ARTICLES
    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments