Saturday, October 1, 2022
More
    Homeराष्ट्रीयThe Kashmir Files: द कश्‍मीर फाइल्‍स पर जाने कैसे शुरू हुआ विवाद?...

    The Kashmir Files: द कश्‍मीर फाइल्‍स पर जाने कैसे शुरू हुआ विवाद? सियासत तक पहुंची आंच, विदेशों में भी चला फ‍िल्‍म का जादू

    नई दिल्‍ली। जम्‍मू कश्‍मीर में कश्‍मीरी पंडितों पर जुल्‍म और पलायन पर बनी फ‍िल्‍म द कश्‍मीर फाइल्‍स जहां एक ओर बाक्‍स आफ‍िस पर धमाल मचा रही है, वहीं दूसरी ओर इस पर सियासत चरम पर पहुंच गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फ‍िल्‍म की तारीफ की है। उन्‍होंने कहा यह मामला अभिव्‍यक्ति की आजादी से जुड़ा है। इसके बाद कांग्रेस व भाजपा विरोधी दलों ने फ‍िल्‍म के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

    नेशनल कांफ्रेंस के नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने सवाल किया है कि फिल्म मेकर बताएं यह फ‍िल्‍म डाक्यूमेंट्री है या कमर्शियल। उन्होंने कहा कि उस वक्त वीपी सिंह साहब की हुकूमत थी, उनके पीछे भाजपा खड़ी हुई थी। नेशनल कांफ्रेंस के नेता मुस्तफा कमाल ने भी एक विवादित बयान दिया है। कमाल ने कहा कि कश्मीरी पंडितों के साथ जो हुआ वह उनकी अपनी मर्जी से हुआ। उन्होंने कहा कि 1990 में हुई इस घटना के लिए फारूक अब्दुल्ला जिम्मेदार नहीं थे, उस समय राज्य में जगमोहन की सरकार थी और उसके जिम्मेदार वह थे।

    kapil sharma show
    कपिल शर्मा के एक शो से हुई विवाद की शुरुआत

    कपिल शर्मा के एक शो से हुई विवाद की शुरुआत

    दरअसल, The Kashmir Files फिल्म के विवाद की शुरुआत कपिल शर्मा के एक शो से हुई। कपिल शर्मा के शो के दौरान जब एक फैन ने फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री से पूछा कि वह द कपिल शर्मा शो में फिल्म को प्रमोट करने के लिए क्यों नहीं गए। उस वक्‍त विवेक अग्निहोत्री ने ट्वीटर यूजर फैंस को जवाब दिया। निर्देशक ने दावा किया था कि कश्मीर फाइल्स को कपिल ने प्रमोट करने से मना कर दिया था, फिर क्या था, इसके बाद सोशल मीडिया पर बायकाट कपिल शर्मा ट्रेंड शुरू हो गया था। मामला बढ़ता देख कपिल शर्मा ने ट्वीट कर इन बातों में कोई सच्चाई नहीं होने की बात कही। इसके बावजूद कपिल शर्मा को विरोध का सामना करना पड़ा। इसके बाद इसकी आंच सियासी गलियारे तक पहुंच गई।

    •  द कश्मीर फाइल्स की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी तारीफ कर चुके हैं। प्रधानमंत्री ने फ‍िल्‍म की तारीफ करते हुए कहा कि इन दिनों इस फिल्म की चर्चा हर ओर हो रही है, जबकि कुछ जमात है, जो इस फिल्स के रिलीज होने के बाद बेचैन हो गई है।
    • केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने इस फिल्म देखने के बाद कहा था कि जो लोग ‘द कश्मीर फाइल्स’ को बैन करने की वकालत कर रहे हैं, वह देश को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्‍होंने जोर देकर कहा कि इस फ‍िल्‍म को गांव की चौपाल तक दिखाना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि आज ममता बनर्जी का वही रोल है, जो कभी कश्मीर में राजनेताओं का था।
    Congress
    फ‍िल्‍म के विरोध में कांग्रेस शासित राज्‍य व अन्‍य

    फ‍िल्‍म के विरोध में कांग्रेस शासित राज्‍य व अन्‍य

    •  राजस्थान के मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि यह फ‍िल्‍म देश में सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ती है। उन्होंने कहा कि अतीत पर कुछ भी टिप्पणी करना उचित नहीं है। पूरे देश और सभी धर्मों के लोग उस समय की घटनाओं का दर्द महसूस करते हैं। यह फिल्म हिंदू-मुसलमानों और अन्य सभी धर्मों के बीच विभाजन को बढ़ा सकती हैं।
    •  इस बीच कांग्रेस तमिलनाडु प्रमुख केएस अलागिरी ने कहा कि फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ एक समुदाय के खिलाफ नफरत और गुस्‍से को उकसाती है। उन्होंने कहा कि फ‍िल्‍म में पूरा सच नहीं दिखाया गया है। यह एक अर्धसत्य है। इस फ‍िल्‍म का उद्देश्‍य निराधार मनगढ़ंत बातों को प्रदर्शित करके इस्लामी लोगों के खिलाफ नफरत को भड़काना है।
    •  छत्तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने सभी विधायकों को भी फिल्म देखने के लिए आमंत्रित किया था। उन्होंने कहा कि इस नरसंहार में न केवल हिंदू, बल्कि वे सभी लोग मारे गए थे, जोकि भारत के साथ खड़े थे। इनमें सिख, मुस्लिम, बौद्ध और अन्य लोग शामिल थे। बघेल ने कहा कि फिल्म में दिखाया गया कि भाजपा के सहयोग से चलने वाली सरकार ने कश्मीरी पंडितों को रोकने का प्रयास नहीं किया, बल्कि उन्हें भाग जाने को कहा गया। लोकसभा में जब राजीव गांधी ने घेरा तो वहां सेना भेजी गई। बघेल ने कहा कि फिल्म में आधा सच दिखाया गया।
    •  समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने भी इस फ‍िल्‍म पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीर फाइल्स की तरह ही ‘लखीमपुर फाइल्स’ भी फिल्म बननी चाहिए। लखीमपुर खीरी में किसानों को गाड़ियों से रौंदा गया तो इस पर फिल्म क्यों नहीं बननी चाहिए।
    kashmir files
    ‘द कश्मीर फाइल्स’ की विदेश में बढ़ी मांग

    ‘The Kashmir Files’ की विदेश में बढ़ी मांग

    फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ न केवल भारतीय सिनेमा में एक नया मानदंड स्थापित कर रही है, बल्कि विश्व स्तर पर भी रिकार्ड तोड़ रही है। सिंगापुर और न्यूजीलैंड को छोड़कर फिल्म ने पहले सप्ताह में चुनिंदा देशों में 11.4 करोड़ रुपये का संग्रह कर लिया है। शुरुआत में फिल्म नौ देशों में केवल 100 स्क्रीनों पर रिलीज की गई थी। हालांकि बढ़ती मांग को देखते हुए ‘द कश्मीर फाइल्स’ को 25 देशों में 350 स्क्रीनों पर रिलीज किया गया।

    उत्तरी अमेरिका में 7.59 करोड़ रुपये, ब्रिटेन में 1.21 करोड़ रुपये और आस्ट्रेलिया में ‘द कश्मीर फाइल्स’ ने 1.98 करोड़ रुपये का कलेक्शन किया है। फिल्म अपने पहले सप्ताह में उत्तरी अमेरिका और आस्ट्रेलिया बाक्स आफिस की शीर्ष 10 फिल्मों की सूची में भी शामिल हो गई है। इतना ही नहीं इस फिल्म की मांग आस्ट्रेलिया के गेराल्डटन, बनबरी, पोर्ट हेडलैंड जैसे छोटे शहरों से भी बढ़ रही है, जहां इससे पहले किसी भारतीय फिल्म को रिलीज नहीं किया गया था।

    11 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज हुई ‘द कश्मीर फाइल्स’ ब्लाकबस्टर साबित हो रही है। इस फिल्म ने महज आठ दिनों में ही 100 करोड़ का आंकड़ा पार कर बाक्स आफिस पर धमाल मचा दिया है। कश्मीरी पंडितों के नरसंहार पर आधारित यह फिल्म न केवल घरेलू बाजार में बल्कि अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भी अपनी चमक बिखेर रही है। शुरुआत में फिल्म नौ देशों में केवल 100 स्क्रीनों पर रिलीज की गई थी। हालांकि, बढ़ती मांग को देखते हुए ‘द कश्मीर फाइल्स’ को 25 देशों में 350 स्क्रीनों पर रिलीज किया गया।

    Read more:दलाई लामा दो साल बाद पहली बार धर्मशाला में सार्वजनिक रूप से आए सामने

    E-paper:http://www.divyasandesh.com

    RELATED ARTICLES
    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments