Monday, May 16, 2022
More
    HomeTrendingभारतीय महिलाएं अपने पतियों को लेकर पोसेसिव, उन्हें साझा करना स्वीकार नहीं...

    भारतीय महिलाएं अपने पतियों को लेकर पोसेसिव, उन्हें साझा करना स्वीकार नहीं कर सकतीं: इलाहाबाद HC

    इलाहाबाद: इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने सोमवार को एक याचिका को खारिज करते हुए अपनी टिप्पणियों में कहा कि एक विवाहित महिला अपने पति के प्रति बेहद संवेदनशील होती है और उसे दूसरों के साथ साझा करना सहन नहीं कर सकती।

    न्यायमूर्ति राहुल चतुर्वेदी की पीठ ने यह टिप्पणी की। उन्होंने निचली अदालत के उस आदेश को बरकरार रखा, 0जिसमें पत्नी को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोपी एक व्यक्ति द्वारा दायर आरोपमुक्त करने के आवेदन को खारिज कर दिया गया था। अदालत ने कहा कि आरोपी सुशील कुमार ने तीसरी बार शादी की थी और जाहिर तौर पर यही एकमात्र कारण था कि उसकी पत्नी की आत्महत्या से मौत हुई।

    अदालत ने कहा कि एक पत्नी के लिए, उसका पति किसी अन्य महिला से गुप्त रूप से शादी करना अपने जीवन को समाप्त करने के लिए पर्याप्त कारण है।

    लाइव लॉ ने बेंच के हवाले से कहा,’वे (भारतीय पत्नियां) सचमुच अपने पति के प्रति संवेदनशील हैं। किसी भी विवाहित महिला के लिए यह सबसे बड़ा झटका होगा कि उसके पति को कोई और महिला साझा कर रही है या वह किसी और महिला से शादी करने जा रहा है। ऐसी विकट स्थिति में उनसे किसी भी तरह की समझदारी की उम्मीद करना असंभव होगा। ठीक ऐसा ही इस मामले में भी हुआ।’

    मामला आत्महत्या से मरने वाली महिला के पति द्वारा दायर एक त्वरित पुनरीक्षण याचिका से संबंधित है। मृतक महिला ने वाराणसी के मंडुआडीह पुलिस स्टेशन में अपने पति सुशील कुमार और उसके परिवार के छह सदस्यों के खिलाफ आईपीसी की कई धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसमें स्वेच्छा से चोट पहुंचाने, आपराधिक धमकी देने और जीवनसाथी के जीवनकाल में दोबारा शादी करने के आरोप शामिल थे।

    प्राथमिकी में पत्नी ने आरोप लगाया कि उसका पति पहले से ही दो बच्चों के साथ शादीशुदा था, लेकिन वह बिना तलाक लिए तीसरी बार शादी के बंधन में बंध गए। यह भी कहा कि उसके पति और ससुराल वालों ने उसे प्रताड़ित किया, मानसिक रूप से परेशान किया।

    प्राथमिकी दर्ज करने के तुरंत बाद, महिला ने जहर खा लिया और उसकी मौत हो गई। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर पति व उसके परिजनों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है। आरोपी ने पहले ट्रायल कोर्ट में डिस्चार्ज याचिका दायर की, जिसे खारिज कर दिया गया।

    इसके बाद उन्होंने इलाहाबाद हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। यह कहते हुए कि आरोपियों पर मुकदमा चलाने के लिए पर्याप्त सबूत हैं, उच्च न्यायालय ने उनकी याचिका खारिज कर दी।

    Read More : Madhya Pradesh News : शादी में रोआब झाड़ने चलाये गोली,बालिका की मृत्यु

    E-Paper : Divya Sandesh

    RELATED ARTICLES
    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments