Monday, May 16, 2022
More
    HomeTrendingबंगाल में बोले शाह, कोरोना खत्म होते ही CAA को लागू किया...

    बंगाल में बोले शाह, कोरोना खत्म होते ही CAA को लागू किया जाएगा

    कोलकाता: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को अपने बंगाल दौरे के दौरान नागरिकता संशोधन कानून (CAA) लागू करने को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर आरोप लगाया कि वो अफवाह फैलाती हैं कि CAA कानून कभी भी धरातल पर लागू नहीं होगा। मगर, मैं कहता हूँ कि कोरोना खत्म होते ही CAA को लागू किया जाएगा। शाह ने कहा कि CAA एक सच्चाई थी, है और रहेगी। उल्लेखनीय है कि गृह मंत्री अमित शाह पश्चिम बंगाल प्रवास पर हैं। उन्होने सिलीगुड़ी स्थित रेलवे के खेल के मैदान में रैली के दौरान ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा।

    सीएम ममता पर राज्य में अत्याचार, भ्रष्टाचार और कट मनी का सिंडिकेट चलाने का इल्जाम लगाते हुए कहा कि जब तक ये सब खत्म नहीं होगा। भाजपा लड़ती रहेगी। ममता को 3 बार चुना गया, मगर वो सुधर नहीं रही हैं। पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद की गई सियासी हिंसा का जिक्र करते हुए शाह ने दावा किया कि अब तो राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग भी ये मान चुका है कि बंगाल में कानून का नहीं, बल्कि यहाँ जो सत्ता है, उसकी इच्छा का शासन चलता है। अमित शाह ने राज्य में महंगी बिजली को लेकर राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया और दावा किया कि पूरे देश में यहाँ बिजली का भाव सबसे अधिक है। वहीं बंगाल में पेट्रोल का दाम 115 रुपए है, जो सर्वाधिक है, जबकि भाजपा की सरकारों में 105 रुपए ही भाव है।

    उन्होंने कहा कि ममता दीदी ने पश्चिम बंगाल की आर्थिक  तौर पर कमर को तोड़कर रख दिया है। देश की आजादी के वक़्त देश की GDP में राज्य का योगदान लगभग 30 फीसद था, जो कि घटकर अब 3.3 फीसद पर आ गया है। गोरखाओं का उल्लेख करते हुए शाह ने ममता बनर्जी पर गोरखा लोगों की अनदेखी करने का भी इल्जाम लगाया और कहा कि भाजपा ने सदा गोरखाओं का सम्मान किया है। उन्होंने गोरखाओं को धन्यवाद दिया कि उन्होंने पश्चिम बंगाल में भाजपा के विधायकों की सीटें 3 से बढ़ाकर 77 कर दीं। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि गोरखपुर से सिलीगुड़ी के बीच 545 किमी लंबी सड़क का निर्माण आरंभ हो गया है। इस पर 31,000 करोड़ रुपए खर्च किए जाने हैं।

    Read More : Osmania University :राहुल गाँधी के उस्मानय विश्वविधयालय यात्रा में हुआ विवाद

    Read E – Paper : Divya Sandesh

    RELATED ARTICLES
    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments