Monday, May 16, 2022
More
    Homeउत्तर प्रदेशयूपी की मजबूती के बगैर सशक्त भारत का निर्माण संभव नहीं :...

    यूपी की मजबूती के बगैर सशक्त भारत का निर्माण संभव नहीं : मोदी

    प्रयागराज।  यूक्रेन और रूस के बीच उपजे तनाव की तरफ इशारा करते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरूवार को कहा कि बदली विश्व व्यवस्था में भारत की मजबूती बहुत जरूरी है और सशक्त भारत का निर्माण उत्तर प्रदेश की मजबूती के बगैर संभव नहीं है। श्री मोदी ने फाफामऊ में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुये कहा “ बदली विश्व व्यवस्था में भारत का मजबूत होना कितना जरुरी है। यह सब जानते है मगर यह भी सच है कि मजबूत भारत, सशक्त उत्तर प्रदेश के बिना संभव नहीं है।”

    modi
     

    समाजवादी पार्टी (सपा) पर निशाना साधते हुये उन्होने कहा “ आज जो घोर परिवारवादी आपके पास आकर वोट मांग रहे हैं, वो लोग सशक्त और आधुनिक उत्तर प्रदेश का निर्माण नहीं कर सकते। ये अफवाहवादी हैं, पलायनवादी हैं। ये घोर अंधविश्वासी हैं। कुर्सी ना चली जाए, इसके लिए ये लोग नोएडा और बिजनौर नहीं जाते। बिजनौर और नोएडा से जो टैक्स आता है उसमें तो मलाई मारने को ये तैयार हैं लेकिन वहां के लोगों को मिलकर जाना, उनके सुख दुख पूछने में अंधविश्वास आड़े आ जाये, क्या ऐसे लोग उत्तर प्रदेश का भला कर सकते हैं, आधुनिक उत्तर प्रदेश बना सकते हैं।” उन्होने कहा कि जो परिवारवादी लोग होते हैं। वो सत्ता में इसलिए आना चाहते हैं क्योंकि वो अपनी और अपने परिवार की ताकत को बढ़ा सकें। 21वीं सदी का यूपी आकांक्षी है। बड़े सपने लेकर आगे बढ़ रहा है। डबल इंजन की सरकार यूपी को विकसित बनाने में दिन-रात जुटी है। 21वीं सदी के यूपी की आकांक्षाएं पूरी हों, इसमें नेतृत्व की बहुत बड़ी भूमिका है। इसलिए सवाल ये भी है कि नेतृत्व कैसा होना चाहिए। प्रधानमंत्री ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की बड़ी जीत का दावा करते हुये कहा “ यूपी में चार चरण के मतदान हो चुके हैं। इन चार चरणों में यूपी के लोगों ने एकजुट होकर बीजेपी के पक्ष में मतदान करके अपना आशीर्वाद दे दिया है। घोर परिवारवादियों ने चौथे चरण से ईवीएम को गाली देना शुरु कर दिया है। जो लोग एक्जिट पोल का इंतजार करते हैं, मैं उन्हें कहूंगा कि एक्जिट पोल का इंतजार न करें। ये जैसे ही ईवीएम को गाली दें तो समझ लीजिए परिवारवादियों का खेल खत्म है। ”

    modi

    उन्होने कहा “अयोध्या में हो रहे राम मंदिर के निर्माण को लेकर, काशी में हो रहे कार्यों को लेकर, प्रयागराज में हो रहे कामों को लेकर एक दूसरा पक्ष भी मैं आज देश के सामने रखना चाहता हूं लेकिन हम भी उसी दिशा में काम करें, लोगों की सुविधा की चिंता करें, तो उसे ये सांप्रदायिक चश्में से देखते हैं। आप खुद देख रहे हैं, काशी विश्वनाथ धाम परियोजना के बाद वहां कितने ज्यादा भक्त आने लगे हैं। आने वालें लोगों में आस्था भी है और कौतूहल भी है। बनारस में जो विकास के काम हो रहे हैं, वो काशी और इस क्षेत्र की इकोनॉमी को बदलेंगे। ” श्री मोदी ने कहा “ प्रयागराज के लोग तो हर कुछ साल में देखते हैं कि जब कुंभ का आयोजन होता है, तो कैसे उसमें आस्था के साथ आज आजीविका भी जुड़ जाती है।जब भक्तों की, यात्रियों की, पर्यटन की संख्या बढ़ती है तो वहां रोजी-रोटी मिलती है, गरीब से गरीब को काम मिलता है। हम जो काम कर रहे हैं, उससे पूरा हिंदुस्तान उस ओर आने वाला है और ये क्षेत्र आर्थिक गतिविधि का केंद्र बनने वाले हैं।”
    उन्होने कहा “ भारत ने जिस तरह से दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सिनेशन कार्यक्रम चलाया है। उस पर हर भारतीय को गर्व है मगर इन परिवारवादी लोगों ने जिस तरह से कोरोना के टीके को लेकर अफवाह फैलाई थी पूरी दुनिया ने देखा था। इन्होंने भारत की वैक्सीन को बदनाम करने की पूरी कोशिश की। ”

    modi

    प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रयागराज की प्रतिष्ठा यहां के बुद्धिजीवी लोगों, यहां की संस्कृति, साहित्य और कला प्रेम से भी है। आप सभी प्रबुद्ध लोग इस बात से तो परिचित हैं कि नौकरी के नाम पर पिछली सरकारों के आयोग में बैठे लोग किस योग्यता को जरूरी मानते थे। इनके लिए योग्यता की अहमियत नहीं, बल्कि सिफारिश, जातिवाद और नोटों के बंडल ही सब कुछ थे। ये लोग नौकरी के नाम पर फिर उत्तर प्रदेश के युवाओं को धोखा दे रहे हैं। सच्चाई ये है कि इन लोगों ने अपने 10 साल के शासन में सिर्फ दो लाख लोगों को सरकारी नौकरी दी। वो भी भाई-भतीजावाद, जातिवाद, पैसों के बंडल के आधार पर जबकि योगी जी की सरकार ने 5 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरी दी। पहले उत्तर प्रदेश में पीसीएस की परीक्षा का सिलेबस यूपीएससी से अलग होता था। हमारी सरकार ने आपकी ये परेशानी समझी और आज यूपी पीसीएस और यूपीएससी का सिलेबस एक जैसा कर दिया। अब उतनी ही मेहनत से आप दोनों परीक्षाएं दे सकते हैं।

    उन्होने कहा कि आज 24 फरवरी का विशेष दिन है। आज के ही दिन पीएम किसान सम्मान निधि को 3 साल पूरे हुए हैं। 2019 में जा किसान सम्मान निधि की घोषणा हुई थी तब कुछ लोग अफवाह फैला रहे थे की ये योजना चुनाव बाद बंद हो जाएगी। दरअसल, पहले की सरकारों में विकास के काम न होने की एक और बहुत बड़ी वजह थी- जातिवाद और भाई-भतीजावाद। परियोजना बनने से लेकर पास होने तक और उसके काम शुरु होने से पहले ठेकेदारी तक में भाई-भतीजावाद। श्री मोदी ने कहा कि कुंभ जैसे पवित्र काम में भी ये गोरख धंधे इन्होंने किये। योगी सरकार में आपके सहयोग से संपन्न हुए कुंभ के दिव्य और भव्य आयोजन को दुनिया ने सराहा है। यूनेस्को ने हमारी इस कुंभ की परंपरा को विश्व विरासत का दर्जा दिया है। जिस तरह पहले की सरकारों ने यूपी के नौजवानों को धोखा दिया, वैसे ही प्रयागराज को भी विकास के लिए तरसा कर रखा। जिन्हें प्रयागराज नाम से ही चिढ़ हो, वो प्रयागराज का विकास क्या करेंगे। उन्होने कहा “ 24 फरवरी मेरे लिए विशेष रहा है। 20 साल पहले इसी दिन मैं पहली बार विधायक बना था। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं भी कभी चुनावी दंगल में जाऊंगा। घोर परिवारवादियों ने इतने दशकों तक संप्रदायवाद की, जातिवाद की, क्षेत्रवाद की राजनीति की। इनकी राजनीति का दायरा संकुचित है, सीमित है, संकीर्ण है। भाजपा की राजनीति का दायरा विस्तृत है, विशाल है, सर्व समावेशी है। ”

    RELATED ARTICLES
    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments