Friday, August 12, 2022
More
    Homeउत्तर प्रदेशZero Tolerance Policy : फॉरेन इन्वेस्टर अनूप सेठी ने अंसल ग्रुप में...

    Zero Tolerance Policy : फॉरेन इन्वेस्टर अनूप सेठी ने अंसल ग्रुप में 150 करोड़ किये निवेश

    Zero Tolerance Policy

    Zero Tolerance Policy : लखनऊ। 1जुलाई प्रदेश की योगी सरकार की जीरो टॉलरेंस नीति के तहत उत्तर प्रदेश में लगातार निवेश बढ़ रहा है यह पिछली हुई बिजनेस मीट से साफ साफ पता चलता है, जिसको लेकर तमाम तरह के उद्योग और इंडस्ट्री यूपी की तरफ आकर्षित हो रही हैं उद्योग जगत के इस विश्वास को देखते हुए हम भी सरकार की जन चेतना में भागीदारी निभाने के लिए संकल्पित है, इस संकल्प को देखते हुए अप्रवासी भारतीय अनूप सेठी जोकि फारेन इन्वेस्टर्स हैं

    उन्होंने भारत में कई प्रकार के उद्योगों में पूर्व में निवेश किया है लेकिन यूपी में पहली बार रियल एस्टेट सेक्टर में इन्वेस्टमेंट करने के लिए अंसल ग्रुप में अपनी महत्वपूर्ण भागीदारी निभाने जा रहे है जिसको देखते हुए असल में बतौर स्टेक होल्डर के रूप में ज्वाइन किया है ताकि इन्वेस्टमेंट के साथ पब्लिक के लिए पारदर्शिता भी बनी रहे इसके ही उन्होंने आम आदमी और गरीब परिवारों के लिए बेहद सस्ती दरों पर मकान देने की बात कही है। अनूप सेठी ने अंसल में 150 करोड़ रुपए की फंडिंग करने की बात करते हुए कंपनी को अपनी अगुवायी में पारदर्शिता के साथ काम करने की बात दोहराई

    Zero Tolerance Policy

    यहाँ पढ़े :Neeraj Chopra : नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक्स में तोडा वर्ल्ड रिकॉर्ड!

    अनूप सेठी शिक्षा

    • मुंबई विश्वविद्यालय से एमबीए (1993), और सेंट जेवियर्स कॉलेज, कोलकाता (1988) से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री प्राप्त की है।
    • एक उत्साही खिलाड़ी, जिसने नौकायन में बंगाल राज्य का प्रतिनिधित्व किया हो।
    • स्टिल स्कल (रोइंग), टेनिस और क्रॉसफिट

    हिस्ट्री (1993-2004)

    • पहले जार्डिन फ्लेमिंग (जेपी मॉर्गन, अधिग्रहण के बाद) के साथ मुंबई (1993 – 1996) और न्यूयॉर्क (1996 – 2004) में काम किया, शुरू में एक बैंकिंग विश्लेषक के रूप में, फिर अमेरिकी निवेशकों के लिए मुख्य भारतीय प्रतिभूति बिक्री दलाल के रूप में काम किया।
    • अमेरिकी बाजारों में 4 बिलियन अमरीकी डालर के भारतीय/दक्षिण एशियाई कंपनी के शेयरों को रखा; 11 में से 10 वर्षों में शीर्ष बिक्री की स्थिति को बनाए रखा
    • सारेगामा (पुराना एचएमवी इंडिया), आईसीआईसीआई बैंक, अरबिंदो फार्मा, वैश्य बैंक, फेडरल बैंक आदि सहित जार्डिन फ्लेमिंग के लिए कई निवेश बैंकिंग जनादेश जीते। बैंक ऑफ बड़ौदा और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में माध्यमिक भूमिकाएं मिलीं।
    • 2 बहुत बड़े सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के निजीकरण में शामिल: गेल (2002), वीएसएनएल (2002)। 2003 में अमेरिका में वेदांत का आईपीओ रखा, कुछ नाम आईसीआईसीआई जीडीआर।
    • समय के साथ कई कॉर्पोरेट और सरकारी स्तर के संबंध बनाए गए हैं जो निजी इक्विटी, संरचित सौदों के साथ-साथ समझ के रुझानों में पहला प्रस्तावक / प्रारंभिक निवेशक लाभ प्रदान करना जारी रखते हैं।

    ई-पेपर :http://www.divyasandesh.com

    RELATED ARTICLES
    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments